Jharkhand Governor List | झारखण्ड के नए राज्यपाल

Jharkhand Governor List in Hindi – झारखंड के राज्यपाल

Jharkhand Governor list
Jharkhand Governor

Jharkhand Governor List  में हम झारखंड के प्रथम, वर्तमान, झारखंड की महिला राज्यपाल इत्यादि के बारे पढ़ेंगे । साथ ही  जानेंगे की राज्यपाल कौन होता है, उसकी योग्यता, नियुक्ति, कार्यकाल, वेतन और राज्यपाल के अधिकार एवं कार्य क्या होते हैं। नीचे Jharkhand Governor List दी गई है।

झारखंड के राज्यपालों का क्रम सूची एवं उनका कार्यकाल

No. Governor of Jharkhand From To
1. प्रभात कुमार 15 Nov 2000 03 Feb 2002
2. विनोद चन्द्र पांडेय ( कार्यवाहक ) 04 Feb 2002 14 July 2002
3. एम रामा जोइस 15 July 2002 11 June 2003
4. वेद प्रकाश मारवाह 12 June 2003 09 Dec 2004
5. सैयद सिब्ते रजी 10 Dec 2004 25 July 2009
6. के. शंकर नारायणन 26 July 2009 21 Jan 2010
7. एम० ओ० एच० फारुख 22 Jan 2010 03 Sept 2011
8. डॉ सैयद अहमद 04 Sept 2011 15 May 2015
9. द्रौपदी मुर्मू 18 May 2015 06 July 2021
10. रमेश बैस 07 July 2021 Present

झारखंड के नये राज्यपाल कौन बने ?

झारखंड के वर्त्तमान राज्यपाल – रमेश बैस

Jharkhand Governor

Jharkhand Government –

रमेश बैस झारखंड के नए राज्यपाल नियुक्त किए गए हैं।
➥इससे पूर्व त्रिपुरा के राज्यपाल थे। (29 July 2019 – 6 July 2021)
➥वह राज्यपाल के रूप में द्रौपदी मुर्मू का स्थान लेंगे ।


➥जन्म – 2 अगस्त 1947 को रायपुर में हुआ था ।
➥1978 में पहली बार रायपुर नगर निगम का पार्षद चुना गया था ।
➥रमेश बैस 1980 से 1984 तक अविभाजित मध्यप्रदेश के विधानसभा सदस्य रहे ।
➥1983 से 1988 तक मध्य प्रदेश के प्रदेश मंत्री के पद पर कार्यरत रहे।
➥1989 में उन्हें पहली बार नौवां लोकसभा चुनाव लड़ा और सांसद बने ।
➥1989 से 1996 तक लगातार छह बार अविभाजित मध्य प्रदेश में लोकसभा सांसद चुने गए।
➥छत्तीसगढ़ में वह मध्य प्रदेश के विभाजन के बाद भी रायपुर के सांसद चुने गए।
➥रमेश बैस ने देश के केंद्रीय मंत्री के रूप में भी कार्यभार संभाला। 


➥छत्तीसगढ़ के मध्य प्रदेश से अलग होने के बाद यहां पर 4 लोकसभा चुनाव हुए जिसमें 3 बार रमेश बैस ने रायपुर लोकसभा सीट पर जीत हासिल की।

 

Jharkhand Governor – योग्यता, नियुक्ति, कार्यकाल, वेतन

न्यायपालिका

संसदीय शासन प्रणाली में राज्य में दो प्रकार की कार्यपालिका होती है ।
➥ नाम मात्र की कार्यपालिका – राज्यपाल (संवैधानिक प्रमुख) होता है।
➥ वास्तविक कार्यपालिका – मुख्यमंत्री

 

 

राज्यपाल

➥राज्यपाल राज्य की कार्यपालिका का प्रमुख होता है।
➥मंत्रिपरिषद की सलाह के अनुसार कार्य करता है।

योग्यता

➥वह भारत का नागरिक हो ।
➥उम्र 35 वर्ष की आयु संसद या किसी राज्य विधानमंडल का सदस्य ना हो । किसी लाभ के पद पर ना हो ।

नियुक्ति


➥राष्ट्रपति द्वारा प्रधानमंत्री की सलाह पर ।

कार्यकाल

➥सामान्यतः 5 वर्ष
नोट – परंतु राष्ट्रपति किसी भी समय पद मुक्त या स्थानांतरित कर सकता है ।

शपथ ग्रहण


➥संबंधित राज्य के उच्च न्यायालय का प्रमुख न्यायाधीश पद की शपथ ग्रहण करवाता है।

वेतन एवं भत्ते


➥3:30 लाख / महीना
➥राज्यपाल का वेतन राज्य की संचित निधि से दिया जाता है ।

विशेषाधिकार

 

➥कर्तव्यों के पालन के संबंध में किसी भी न्यायालय के प्रति उत्तरदायी नहीं होता है ।
➥कार्यकाल के दौरान बंदी नहीं बनाया जा सकता।
➥ फौजदारी मुकदमा नहीं चलाया जा सकता ।

 

 

राज्यपाल के अधिकार एवं कार्य

कार्यपालिका अधिकार

➥राज्य के मुख्यमंत्री तथा मुख्यमंत्री की सलाह से उसके मंत्रिपरिषद के सदस्यों को नियुक्त करता है तथा शपथ दिलाता है ।
➥राज्य के महाधिवक्ता एवं राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष तथा सदस्यों की नियुक्ति करता है ।
➥राज्यपाल की सलाह पर ही राष्ट्रपति उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति करता है ।
➥राज्य के विश्वविद्यालयों का कुलाधिपति (चांसलर) होता है तथा वाइस चांसलर की नियुक्ति करता है।

विधायी अधिकार

➥ राज्य विधानमंडल का सत्र बुलाने, सत्रावसान करने एवं विधानसभा को विघटित करने का अधिकार है।
➥ राज्य विधानमंडल का अंग होने के नाते राज्यपाल को विधानमंडल में अभिभाषण करने एवं संदेश भेजने का अधिकार प्राप्त है ।
➥ राज्य विधानमंडल के समक्ष वार्षिक वित्तीय विवरण (बजट) प्रस्तुत करवाता है।
➥ धन विधेयक एवं अनुदान मांगों की सिफारिश करने की शक्ति प्राप्त है ।
➥ राज्यपाल के हस्ताक्षर के बाद ही विधान मंडल द्वारा पारित विधेयक(Bill) अधिनियम (Act) बनता है।

न्यायिक अधिकार

➥राजपाल किसी व्यक्ति को न्यायालय द्वारा दिए गए दंड को क्षमादान, लघुकरण, निलंबन में परिवर्तित कर सकता है।
➥परंतु मृत्युदंड प्राप्त व्यक्ति के बारे कोई निर्णय लेने का अधिकार प्राप्त नहीं है।

आपातकालीन अधिकार

➥राज्य में संवैधानिक संकट उत्पन्न होने की स्थिति में राज्यपाल आर्टिकल 356 के तहत राष्ट्रपति से उस राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश कर सकता है।

विवेकाधिकार

➥जब विधानसभा में किसी दल को स्पष्ट बहुमत प्राप्त नहीं हो तो राज्यपाल स्वविवेक से किसी भी दल के नेता को मुख्यमंत्री पद पर नियुक्त कर सकता है।

 

➥2005 में अर्जुन मुंडा को मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था।
➥ उस समय राज्यपाल सैयद सिब्ते रजी थे।

 

➥ राज्यपाल के विवेकाधिकार को किसी भी न्यायालय में प्रश्न गत नहीं किया जा सकता है।

Jharkhand Governor list में हमने झारखंड के राज्यपाल के बारे में पढ़ा, हमने यह भी जाना की राज्यपाल की नियुक्ति, योग्यता उसके कार्य क्या होते हैं। Jharkhand Governor list

Home
Jharkhand Gk GS

1 thought on “Jharkhand Governor List | झारखण्ड के नए राज्यपाल”

Leave a comment